Tuesday, 13 October 2015

प्रेस विज्ञप्ति के बारे में सच्चाई


पी आर कंपनियां, प्रेस विज्ञप्तियां मुख्य रूप से मीडिया के लिए नहीं लिखती, बल्कि वें अपने क्लाइंट्स के लिए लिखती है| वें प्रेस विज्ञप्ति के जरिये इस बात का भरोसा दिलातें हैं की वें अपने क्लाइंट्स का कितना ध्यान रखतें है और उनके ब्रांड का पब्लिसिटी कर रहें हैं| इसके आलावा क्लाइंट्स भी जानना चाहतें है कि पीआर कंपनियां और उनके प्रतिनिधि कितने लगन से उनके लिए काम कर रही है| लेकिन, वास्तव में क्या हो रहा है? क्या यह प्रेस विज्ञप्तियां जो हमने लिखा है कितने हद तक ठीक है? या फिर हम ये सोचें की इन प्रेस विज्ञप्ति को कैसे प्रभावी बना सकतें है| 
   
हम किसी क्लाइंट का एक प्रेस रिलीज़ बनातें हैं और उसे सारे मीडिया हाउसेस में ईमेल कर देतें है फिर न्यूज़ पब्लिश कराने के लिए फ़ोन पर फॉलो उप लेते हैं| ये शायद बिल्कुल प्रभावी नहीं है|

एक पत्रकार के रूप से सोचा जाए जो की एक संपादक के रूप में कार्यरत है| उनके पास पुरे दिन में ना जाने कितने प्रेस विज्ञप्ति आतें होंगे| उनमें से हमारा भी एक होगा| जिसकी लम्बाई एक पृष्ठ से अधिक होगी| उनके पास उतना समय ही नहीं है कि वें इस विज्ञप्ति को पढ़ सके|

इसलिए इसका समाधान है कि प्रेस विज्ञप्ति बहुत ही आसन शब्दों में लिखी होनी चाहिए| जिसकी संक्षिप्त स्टोरी में बातें मुख्य बिन्दुओं को दर्शाती हो और ऐसा विवरण लिखा हो की संपादक को उसमें दिलचस्पी दिखे |

हमारा प्रेस विज्ञप्ति तभी प्रभावी हो सकता है जब हमारी स्टोरी बाजार में नयी हो या फिर एक अत्यंत अनोखी कहानी हो| नहीं तो किसी बड़ी हस्ती का नाम जुड़ा हो| अगर आपका विज्ञप्ति इन श्रेणियों में नहीं आता है तो हो सकता है की आपका विज्ञप्ति कूड़ेदान में चले जाए|

प्रेस विज्ञप्ति ही एक ऐसा शस्त्र है जिसके जरिये पी आर कम्पनी अपने क्लाइंट को खुश रख सकती है|  

No comments:

Post a Comment