Monday, 2 November 2015

जन-संपर्क में संवाद का महत्व



संवाद की बहुत-सी परिभाषाएँ है लेकिन सामान्यतया, संवाद एक ऐसा माध्यम है जिसके तहत किसी व्यक्ति की भावना किसी दूसरे व्यक्ति तक पहुँचाई जाती है| दूसरे शब्दों में’कोई भी व्यक्त की गई भावनाएक- दुसरे को समझ आ जाए’ उसे संवाद कहते है| आज के दौरमें संवाद और ज्ञान ऐसे दो पंख है जिनके सहारे आसमान की ऊचाईयों कोछूआ जा सकता है|

वास्तव में पीआर, संवादहुनर से ही घिरा हुआ है,यहपीआर की सबसे बड़ीनीव है| क्लायंट/व्यक्तिको आकर्षित और प्रेरित करने के लिए यह सबसे बड़ा अस्त्र है|संवाद करते समय अपनी बातो को स्पष्ट रूप से रखने के लिए सही उच्चारण करना, प्रभावशाली शब्दों का उपयोग करना,प्रमुख है| इस हुनर एवं कौशल की मदद से अपने जन-संपर्क को न सिर्फबरकरार रखा जा सकता हैबल्कि बुलंदियों पर पहूँचाया जा सकता है|

संवादके कई प्रकार होते है,लेकिन जब हम पीआर (PR)में संवाद की बात करते है तो आमतौर पर चार प्रकार के संवादका प्रयोग किया जाता हैजोकि निम्नलिखित हैं:1. मौखिक-संवाद2.सांकेतिक-संवाद3. लिखित-संवाद4. वेब-संवाद|

·        मौखिक-संवाद
जब कोई व्यक्ति अपनी  भावनाओ को मौखिक रूप से व्यक्त करता है तो हम उसे मौखिक संवाद कहते है| दैनिक जीवन में सबसे ज्यादा इसका उपयोग किया जाता है|

·        सांकेतिक-संवाद
जब कोई व्यक्ति अपनी भावनाओ को मौखिक रूप से न व्यक्त कर अपने चेहरेके भाव से, शरीर की हाव-भाव से और आँखों से व्यक्त करे तो उसे सांकेतिक संवादकहा जाता है| कई बार गुप्त संवाद के लिए इसका प्रयोग होता है|यह एक प्रभावशाली संवाद माध्यम है| मगर सांकेतिक संवाद कि अपनी खामियाँ भी है| एक ही इशारा दो व्यक्तियों के लिए अलग-अलग संवाद का सूचक हो सकता है| ऐसी स्थिति में परशानी हो सकती है क्योकि प्रेषक और लक्षित संवादकर्ता के बीच एक भ्रम की स्थिति उत्पन्न हो सकती है| इसका निराकरण सांकेतिक संवाद से नही हो सकता|

·        लिखित-संवाद
यह एक बहुत ही अहम् भाग हैजिसका उपयोग ई-मेल,सुचना-पत्र, रिपोर्ट और पत्र-लेखन में किया जाता है| लिखते समय सही शब्दों का उपयोग करना, मात्राओं का ध्यान में रखते हुए सही वाक्य बनाना और उसका सही-सहीउपयोग करना जरुरी है, ताकि लक्षित संवादकर्ता बिना किसी भ्रान्ति के सारा संवाद समझ जाये| 
  
·        वेब-संवाद
आधुनिक दौर में इन्टरनेट संवाद अति आवश्यक है|जन-संपर्क में ज्यादा से जयादा संपर्क बढाने के लिए वेब-संवाद रखना बेहदजरुरी है| इस संवाद की मदद से आप बहुत जल्दी, बहुत ही कम समय में, कहीं से भी,संवाद कर सकते है| अपने व्यवसाय को ज्यादा से जयादा बढाने के लिए यह हूनर आवश्यक है|

No comments:

Post a Comment