Saturday, 16 January 2016

पी आर में 'केमिस्ट्री

मेरे लिए पी आर सिर्फ एक कला नही है।  बल्कि मेरे लिए विज्ञानं के विभिन्न विषयों जैसा एक सहज संयोजन  है। जिस प्रकार किसी इंजीनियर और एमबीए के छात्र को  फिजिक्स,रीजनिंग और मैथ  इत्यादि में निपुण होना पड़ता है ठीक उसी प्रकार पीआर में उसे कुछ कलाओं के  साथ  निपुण  होना  पड़ता  है।  लेकिन आज मैं इस बात पर चर्चा करने नहीं जा रहा की पीआर में बेहतर करियर के लिए क्या करे।  ये सब आपने कॉलेजेस से लेकर इंटरनेट पर खूब पढ़ा होगा।  इसलिए मैं उस बारे में बात करके समय नष्ट नही करना चाहता क्यों की मैं कौन सा कोई राकेट साइंस बता दूंगा। मैं आज बात कर रहा हूँ  'केमिस्ट्री' की। पीआर में सबसे ज्यादा केमिस्ट्री की आवश्यकता होती है।  हाँ यह बात अलग है की इस केमिस्ट्री का अर्थ रसायन से  नही बल्कि 'सम्बन्ध' से है।   केमिस्ट्री से तात्पर्य है की एक पीआर एजेंसी और क्लाइंट के बीच में कैसा सम्बन्ध होना चाहिए।  मैं आज इसी विषय पर  प्रकाश डालूँगा। 
 यदि मैं क्लाइंट होता तो मैं एक पीआर एजेंसी से क्या उम्मीद रखता हूँ ?

मैं अगर किसी पी आर एजेंसी को अपने बिज़नेस और लोगों के समक्ष बेहतर छवि के लिए रखना चाहता हूँ तो मेरे लिए कुछ बाते बहुत ही महत्वपूर्ण रहती जैसे की :-

1. मेरे  व्यापार को समझने वाली पीआर एजेंसी चाहूंगा जो आतंरिक और बाह्य दोनों ही माध्यमो में विश्लेषण करने में सक्षम हो और मेरे व्यापार की प्रगति के लिए कुछ नए विचारों के साथ आये। 
2. सिर्फ कम्युनिकेशन में रहकर बल्कि  मेरी सकारात्मक प्रतिष्ठा को बरक़रार रखने में हमेशा कार्यरत रहे अर्थात कॉर्पोरेट संस्कृती और उसके मूल्यों को समझे। 
3. एजेंसी के पास अच्छा लेखक होना चाहिए अगर कोई अच्छा पत्रकार हो तो और भी बेहतर जिससे वो हमारे व्यापर सम्बंधित शोध कर सके और बेहतर स्टोरीज निकाल सके। 

4. पारम्परिक  सोच में बंधी हुई एजेंसी बिल्कुल नहीं होनी चाहिए, मीटिंग के दौरान आधुनिक टेक्नोलॉजी का उपयोग करे  जैसे की ग्राफ़िक्स का उपयोग हो, वीडियो समाचार भी दिखाए, फ़्लैश मॉब, प्रेजेंटेशन, पब्लिश हुई कवरेज इत्यादि टेक्निकल माध्यम में प्रस्तुत करे।  

5. अपना प्रभाव छोड़ने में सफल रहे जैसे की किसी इवेंट के बारे में यदि बताये तो उसमे क्लाइंट का क्या इम्पैक्ट होगा वो जरूर बताये। यह आवश्यक नही की वह कैसे काम  करती  है।  सभी के अपने तरीके होते है अंततः परिणाम ही सब कुछ प्रदर्शित करता है। 
6. चुनौतियों  के लिए हमेशा  तैयार रहे कुछ ऐसे विचार लेकर आये जिसके बारे में हम सोच नही सकते।

7. सक्रीय और पारदर्शी होना बेहद जरुरी है जैसे की दी हुई समय सीमा से पहले कार्य को पूरा करने की कोशिश करे यदि कोई महत्वपूर्ण सूचना हो तो उसे जल्द से जल्द हमारे  पास पहुचाएं। 


एक क्लाइंट के तौर पर मैं पी आर कंसल्टेंसी से इस तरह की उम्मीद करता हूँ जिससे हमारे सम्बन्ध भविष्य में लम्बे समय तक बेहतर चल सके। यदि एक पीआर एजेंसी की क्लाइंट के साथ बेहतर केमिस्ट्री है तो निश्चित ही पीआर और क्लाइंट दोनों का भविष्य सुनहरा होगा। 

 लेखक वैभव मिश्रा -पि. आर प्रोफेशनल्स’



No comments:

Post a Comment