Tuesday, 19 January 2016

मीडिया का प्यार – हुक्का मार



वैसे तो ये सवाल पहले भी कई बार मन को रौंद चूका हैं , क्या मीडिया वाले सिर्फ अख़बार और टीवी के दुनिया में खोये रहते हैं ? वैसे तो छुट्टी के वक़्त कहने को तो घर पर रहते हैं लेकिन सबसे तेजऔर सबसे पहलेके चक्कर में उस वक़्त भी वह लैपटॉप और इन्टरनेट में खोये रहते हैं | बच्चों के लिए सन्डे वाले पापाऔर बीवी के नज़र में (स्वादानुसार अनेक नाम पाए जाते हैं )|क्या वो कभी प्यार नहीं कर सकते?क्या उनकी दुनिया सीमित हो गयी हैं ? इनसब मिथकों को दूर करने का बीड़ा उठाया हैं रुपर्ट मर्डोक(Rupert Murdoch) ने |

मीडिया मुग़ल, न्यूज़कोर्प के CEO और 12.7 बिलियन US डॉलर के मालिक ने 84 साल के उम्र में सुपर मॉडल जेरी हॉल(59) से सगाई कर यह साबित कर दिया की तमाम आपा धापी के बाद भी आप अपनी निजी जिंदगी को समय दे सकते हैं | रुपर्ट मर्डोक मीडिया जगत के बादशाह कहे जाते हैं | बात चाहे डेविड कैमरून की वापसी का हो या फिर अमेरिकी सरकार से लड़ कर अपनी नागरिकता लेने की हो , रुपर्ट ने बखूबी से इस सारे कार्य को अंजाम दिया | 2011  में  चर्चित ब्रिटिश संसद सदस्यों के फ़ोन के टैपिंग के मामले में भी रुपर्ट का नाम आया था | इन सब के बावजूद उन्होंने अपने निजी जिंदगी से कभी भी समझौता नहीं किया | यह उनकी चौथी शादी हैं |

मुझे ये बिलकुल नहीं पता की इन सब से भारत की मीडिया पर क्या असर पड़ता हैं , ना ही मैं ये ज़ोर देना चाहता हूँ की एक से अधिक शादी करके ही आप अपनी जिंदगी सुकून से बिता सकते हैं | मेरा ये मानना हैं की इन सारी बातो से यह तो जरुर साबित होता हैं की मीडिया वाले भी अपने निजी और दफ्तर के कामों में अंतर स्पष्ट कर सकते हैं |हालाँकि बुद्धिजीवी इसका एक और कारण यह भी बताते हैं की विदेशों के पी आर भारत के तुलना में मजबूत और ईमानदार हैं | मीडिया के नंदी बनके वे उनके काम को आसान कर देता हैं | इससे पत्रकारों का काम आसान तो होता ही है , इसके साथ साथ समय की बचत भी होती हैं | यदि भारत में भी अगर इस चीज़ की ओर ध्यान दिया जाये की पी आर और मीडिया के बीच सही और ईमानदार सामंजस्य बैठाया जाये तो मेरी मानिये यहाँ एक नहीं बल्कि हजारों की संख्या में रुपर्ट मर्डोक बैठे हुए हैं |


                   लेखक गौरव गौतम प्रबंधक -पि. आर प्रोफेशनल्स’

No comments:

Post a Comment