Wednesday, 28 September 2016

पीआर में शिष्टाचार

एक बहुत ही अच्छी लाइन है अनुशासन ही देश को महान बनाता है|  वैसे तो कहने के लिए यह लाइन बहुत आसान हैलेकिन इस पंक्ति को समझना और इसकाअनुसरण करना वास्तवमें  एक महान कार्य हैकिसी भी इंसान की जिंदगी में अच्छा शिष्टाचार और बुरा शिष्टाचार बहुत बड़ा फर्क डालता है | शिष्टाचार कहीं भीकिसीभी क्षेत्र में बहुत मायने रखता है |

शिष्टाचार हमारे जीवन का एक अनिवार्य अंग है | विनम्रता और  सहजता प्रत्येक व्यक्ति को पसंद आता  है | जो व्यक्ति शिष्टाचार से पेश आते हैउनके पास बड़ी बड़ीडिग्रियां  होने पर भी वे अपने क्षेत्र में एक अलग पहचान बना लेते है | प्रत्येक व्यक्ति सामने वाले व्यक्ति से शिष्टाचार और विनम्रता की अपेक्षा करता है | शिष्टाचार कोअपने जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा मानने वाला व्यक्ति अक्सर बुरी चीजो से मुक्त रहता है जैसे : अहंकारईष्र्यालोभक्रोध आदि | शिष्टाचार के मार्ग पर चलने वालाव्यक्ति हमेशा स्वच्छनिर्मल और दुर्गुणों से परे होता है|

मेरे विचार से व्यक्ति  अगर खुद को अच्छा बनाना शुरू कर दे तो,  देश  को महान बनने में देर नहीं लगेगी | कुछ ऐसी ही छोटीछोटी बातें पीआर इंडस्ट्री (PRमें बहुत मायनेरखती है,  उनमें से एक है  शिष्टाचार ’ लोग कमाने के लिए बहुत कुछ कमाते है | 

लेकिन यह एक ऐसी चीज हैजिसे अच्छे माहौलअच्छे लोगों की संगत से,साकारात्मक सोच सेबड़े छोटों के सम्मान से सीखा जाता है | अच्छे शिष्टाचार के माध्यम से जब कोई इंसान किसी व्यक्ति  का दिल जीतता है तब उस व्यक्ति  कीमहानता और भी बढ़ जाती है | इसे सीखना भी एक कला है |

लोगो से अच्छे से बात करनाअच्छे से व्यवहार करनाबड़े छोटों का ख्याल रखनाउन्हें सम्मान देना ,यही तो शिष्टाचार हैये सब तो बचपन से ही परिवार और समाज के साथ स्कूल में सबको सीखने को मिलता है |आगे भी वह निरंतर सीखता रहता है और इसको अपने जीवन में अपनाता भी  है | पीआर (Public Relationsके  क्षेत्र  में लोंगोंसे ज्यादा मिलना जुलना होता हैबातचीतबैठक के दौरानइंसान की हर एक लाइन सामने वाले व्यक्ति पर बहुत ही सीधा प्रभाव डालती है |  इसलिए शिष्टाचार की जरुरत हमारे व्यक्तिगत जीवन के साथ ही सामाजिक जीवन के लिए भी उतना ही जरुरी है |

                  लेखक सदाम हुसेन PR Professionals    

No comments:

Post a Comment