Friday, 28 October 2016

स्वच्छ भारत अभियान और हमारा प्रयास

भारत के प्रधानमंत्री द्वारा चलाये गए  स्वच्छ भारत अभियानके द्वारा आज हर तरफ साफ़ सफाई की चर्चाएं चल रहीं हैं | और हम सभी को इस अभियान से जुड़कर देशहित में अपनी भागीदारी देनी चाहिए | स्वच्छता सिर्फ सरकार की जिम्मेदारी नहीं है , यह हम सब की भी जिम्मेदारी है | सरकार पहल कर सकती है , सहयोग कर सकती है लेकिन हमको ही अपने आस पास की जगहों को साफ़ सुथरा रखना है |

सामाजिक संस्थाओं की यह जिम्मेदारी बनती है की सिर्फ दिखावे के लिए ही यह कार्य न किया जाये बल्कि निष्ठापूर्वक इस कार्य को किया जाये और दूसरों को मीडिया के माध्यम से यह बताया जाये जिससे अन्य लोग भी कुछ सीखें और जागरूक हो सकें |

आज कल दिल्ली और आस पास के क्षेत्रों में चिकनगुनिया , डेंगू और भी न जाने कितनी बीमारियाँ फैली हुई है | क्या आपको नहीं लगता की यह कहीं न कहीं साफ़ सफाई से भी जुड़ी है ? अगर गन्दा पानी और कूड़ा इकठ्ठा न होने दिया जाये तो फिर मच्छर का लार्वा नहीं पैदा होगा और यह डेंगू के महामारी को रोकने में कारगर होगा | अन्य भी बहुत सारे फायदे हैं सफाई के जिन्हें आप जानते है लेकिन नज़रन्दाज करते हैं |

लोग अभी तक खुले में शौच करते हैं जबकि आज हर घर में शौचालय होना ही चाहिए या फिर जगह जगह सामुदायिक शौचालय बने हैं उनका प्रयोग करना चाहिए | गाँव में अभी भी बहुत कम घरों में ही शौचालय बन पाए है | मीडिया के माध्यम से यह पता चलता है की बहुत सी ग्रामीण महिलाएं और बेटियां शौचालय निर्माण के लिए परिवार और समाज से लड़ रही हैं और साथ ही अपने मेनहत और जमा पैसों से शौचालय का निर्माण करा रहीं हैं | यह एक सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है और इन सबका जिम्मेदार मीडिया ही है जिसके माध्यम से यह जागरूकता लोंगों तक पहुंची है | मीडिया जनसम्पर्क का एक ऐसा माध्यम है जो मास को प्रभावित करता है | सामाजिक जागरूकता और होते हुए परिवर्तन को मीडिया के सकारात्मक पहलु के तहत आसानी से समझ सकते है | साथ ही सोशल मीडिया की पहुँच अब दूर सुदूर गाँव तक पहुँचने की वजह से किसी भी मुद्दे पर आसानी से लोंगों के विचार समझे जा सकते हैं | स्वच्छ भारत अभियान, प्रधानमंत्री द्वारा दिखाई गयी एक इच्छाशक्ति है जिसे लोंगों को समझना चाहिए और अपने आस पास के जगह को साफ़ सुथरा बनाने में अपना सहयोग करना चाहिए | तभी स्वच्छता अभियान की सार्थक होगा |  

  लेखिका अमृता राज सिंहPR Professionals 

No comments:

Post a Comment